ikshit

Chote - Chote Anubhav

51 Posts

36 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12933 postid : 686874

चाँद भरी दोपहरी…

Posted On: 14 Jan, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चाँद भरी दोपहरी
करिश्मा बड़ा अनमोल है…
धूप संग चाँदनी की तरावट
बारिश मोहक घनघोर है!
मज़हब के पैमाने पर
कौन पाएगा इनायत कितनी
बनाने वाले खुदा के लिए भी
ये मुश्किल… बड़ी बेजोड़ है.
चाँद भरी दोपहरी…
करिश्मा… …!
ना शुरू, ना आख़िरी कोई
ना कसमसाहट बड़े-छोटे की
इसीलिए तो उसने
दुनिया बनाई गोल है…
तरह-तरह के वक़्त तैराना
जिसका अंदाज़-ए-शौक है!
चाँद भरी दोपहरी…
करिश्मा… …!
हम लड़-मरें सब
कितना-कितना कर के…
मुमकिन तो होगा बस उतना ही
जितनी… उसने छोडी डोर है!
चाँद भरी दोपहरी…
करिश्मा…
बड़ा अनमोल है !!!



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
January 15, 2014

सुन्दर शब्दों संगठन ! इक्षित जी बधाई ! मेहनत करें आगे बढ़ें !

    ikshit के द्वारा
    January 16, 2014

    Acharya Vijay Gunjan ji… aap ki pratikriya jaan kar atyant Khushi Hui… Mehnat Kar raha hoon! Mitron ka sahyog aur agrajon ka aasheervad… aasha hai lekhni ko sashakt karega. Aap ke shabdon ka… saharsh aabhari hoon.


topic of the week



latest from jagran